Make your own free website on Tripod.com

 

 

टुंबाटी ग्रह पर खतरा

लेखक:-एम .मुबीन

 

 

 

धरती के वैज्ञानिक और राजनेता टुंबाटी ग्रह की सैर करने के बाद धरती पर वापस जाने की तैयारी में थे कि धरती पर भारतीय प्रतिनिधी के रुप में आए डॉ क़बीर के पुत्र हुनैन ने एक धमाका किया

   'कुछ महीनों में ही पूरा टुंबाटी ग्रह नष्ट हो जाएगा'

हुनैन की इस बात पर किसी ने धयान नही दिया क्यों कि धरती से आने के बाद दूसरे दिन बाद ही हुनैन ने घोषणा की थी

   'टुंबाटी ग्रह जिस तरहा बसा है और यहां पर जिस धातु का सब से अधिक उपयोग किया गया है किसी दिन उस घातु के कारण पूरा टुंबाटी ग्रह नष्ट हो जाएगा ''

   हुनैन की उस बात पर भी उसे बच्चा समझ कर किसी ने ध्यान नही दिया था और सभी टुंबाटी ग्रह की सैर में लग गए थे

   हुनैन का कहना था टुंबाटी ग्रह पर हर वस्तु को बनाने में 'मंकार' नामी धातु का उपयोग किया गया है चाहे रोबॉट, कंप्यूटर,घर हो, बडी बडी प्रयोगशाली, हथियार वाहन हो या घर दार हर किसी में मंकार का उपयोग किया गया है क्यों कि यह घातु टुंबाटी ग्रह पर बहुत मिलती है धरती पर केवल इसकी कलपना ही की जा सकती है इस घातु की विशेषता के बारे में संक्षिप्त में यही कहा जा सकता है कि धरती पर मिलने वाली हर धातु की विशेषता इस में है इस प्रकार एक धातु मंकार में सैंकडो धातुओं की विशेषता है जैसे लोहे फौलाद से हजार गुना अधिक सख्ती,तो सोने सा चमकीला पन अलोमेनियम की तरह हलका पन इता इता

    इन्ही सैंकडों धातु की विशेष्ता के कारण लेजर और अंणू का धमाका भी इस धातु पर कोई प्रभाव नही डाल पाता और इसे अपनी सुरक्षा कवच मानते थे अपने शरीर पर इसी धातु का कवच पहेंनते थे जो उन्हें हर तरह की सुरक्षा प्रदान करती थी 

    उस धातु को नष्ट करने वाला कोई भी तत्व पुरे बा्रमांहण में मौजूद नही था

    परंतु हुनैन ने इसे गलत बताया था

    उसने सौ गैसों के नाम बताए थे सौ गैसो को मिला कर एक नई गैस बनाई जाए तो उस गैस के सामने मंकार विफल हो जाएगी

    उस गैस के मंकार से मिलते ही मंकार के धातु तत्व रासायनिक प्राक्रिया आरंभ कर देंगे और मंकार पानी की तरहा बन कर पिघल जाएगी और यदि वह गैस टुंबाटी ग्रह पर पैदा हाें गई तो पूरा ग्रह नष्ट हो जाएगा क्यों कि इस ग्रह पर हर वस्तु में मंकार का उपयोग किया गया है और टुंबाटी ग्रह पर जीवन ही समाप्त हो जाएगा

    फिर कुछ दिनों के भीतर ही हुनैन ने जब यह घोषणा भी कर दी कि केवल कुछ महीनों में ही टुंबाटी ग्रह नष्ट हो जाएगा तो भी किसी ने गंभीरता स ेनही लिया सब उस का मजाक उडाने लगे कि इतने वैज्ञानिक रुप से प्रगत ग्रह अचानक किस प्रकार नष्ट हो सकता है

    धरती के वासिओं ने हुनैन की इस  बात को भले ही गंभीरता से नही लिया परंतु टुंबाटी वासीओं ने जरुर लिया

 सम्राट योकोटी ने हुनैन को बुला कर पूछा

    'हुनैन बेटे तुम किस आधार पर कह रहे हो कि चार पांच मास में पूरा टुंबाटी ग्रह नष्ट हो जाएगा?' 

    'इस ग्रह की हर चिज के बनाने में मंकार धातु के उपयोग के कारण एक दिन यह ग्रह नष्ट हो जाएगा' हुनैन बोला

    'परंतु जहां तक हमारे वैज्ञानिकों की खोज और दावा है मंकार धातु को नष्ट करने वाला कोई भी तत्व बा्रहमांण में नही है ' समा्रट योकोटी बोला

    'कोई अकेला तत्व नही है परंतु कई तत्वों के मिलने से वह तत्व बन सकता है'

फिर हुनैन ने उन सौ गैसो के नाम बताए

'इन सौ गैसों के मिश्रण से जो गैस तैयार होगी वह मंकार को पानी की तरहा पिघला देगी और मेरी दूसरी बात पर ध्यान दीजिए अपने वैज्ञानिकों से पता लगाईए मेरी बात सच है या झूट ''

     जिस आकाश गंगा में टुंबाटी ग्रह है उसी आकाश गंगा के एक सुर्य में एक भयानक   धमाका हुआ है  दुर्भागय से वे सौ गैसे उस सुर्य में हैं उस धमाके बाद वह सारी सौ गैसे आपस में मिल गई होंगी और वह गैस जिस का नाम मै ने 'उसाम' रखा है तैयार हो गई होंगी और वह गैस उसाम धीरे धीरे पूरी आकाश गंगा में फैलेंगी 'उसाम' आकाश गंगा में फैलते फैलते एक दिन टुंबाटी ग्रह तक पहुंच जाएगी और जिस दिन यह गैस टुंबाटी पहुंच गई पूरा टुंबाटी ग्रह नष्ट हो जाएगा क्योंकि उसाम मंकार को पिघला देंगी और मंकार के बिना तो यंहा कि  किसी वस्तु की कलपना भी नही कि जा सकती'

   हुनैन की बात सुनकर समा्रट याकोटी के चहरे पर हवाईया उडने लगी

 उस ने तुरंत आदेश दिया कि इस बात का पता लगाया जाए कि हुनैन जिस धमाके के बारे में कह रहा है क्या आकाश गंगा के किसी सूरज में कोई इस प्रकार का धमाका हुआ है ?

   तुरंत उत्तर मिला कि इस प्रकार का एक धमाका रेकार्ड किया गया है उसके बाद उसने आदेश दिया कि हुनैन की  बताई गैसों के मिश्रण से जो गैस उसाम बन सकती है उसे तैयार कर के कर पता लगाया जाए कि क्या यह गैस 'मंकार को नष्ट कर सकती है वैज्ञानिको ने उसाम बनाकर प्रयांग किया और योकोटी को खबर दि कि सच मुच उसाम गैस मंकार को नष्ट कर देंगी 

   इस बात को सुनकर योकोब्ी के चहरे पर और भी अधिक हवाईया उडने लगी

   उसने फिर आदेश दिया कि पता लगाया जाए की उन की आकाश मार्ग के सुर्य में हुए  धमाके से क्या उसाम गैस बनी होगी? और वह गैस वहां से फैल कर टुंबाटी ग्रह तक पहुंच सकती है'

   वैज्ञानिकों का उत्तर आया उस धमाके से उसाम गैस बनी हैं और वह जिस गति से आकाश गंगा में फैल रही हैं पांच छ मास में टुंबाटी पहुंच कर टेंबाटी ग्रह को नष्ट कर देगी

    इस बात को सुनकर योकोटी दहाडे मार मार कर रोने लगा

''नही ऐसा नही हो सकता मेरा प्यारा ग्रह टुंबाटी नष्ट नही हो सकता मेरा सामराज्य नष्ट नही हो सकता ''

    'सम्राट आप अपने आपको सबसे अधिक शक्ति शाली समझते हुए सारे ब्रहमांड पर राज्य करने का सोच रहे थे सारे ब्रमांहड की शक्ति के लिए खतरा बन गए थे अपने आप को इश्वर समझने लगे थे आप की इस खुदाइ को अंकुश तो लगना था'' हुनैन बोला

    'नही हुनैन बेटे मैं वादा करता हूं अपने इन सम्राज्यवादी विचारों को बदल ूदंगा ब्राहमांड की शक्ति को भंग नही करुंगा धरती की ओर नजर उठा कर भी नही देखुूगा परंतु किसी तरह टुंबाटी ग्रह को नष्ट होने से बचाने का कोई उपाय बताओ कक्या कोई उपाय हैं?''

    'उपाय क्यो नहीं है कई उपाय हैं' हुनैन बोला

'' वे क्या उपाय है? ''

    'उसाम गैस को टुंबाटी की धरती तक पहुचने से रोका जाए-'

    'परंतु यह कैसे संभव है?'

    'संभव हे धरती के गिर्द ओजोन नामी गैस का एक कवच है जिसे ओजोन की छतरी कहा जाता है यह कवच धरती तक उन विषैली किरनों को पहुंचने से रोकता है जो धरती,धरती वासियों के लिए घातक है आप लोगों ने तो विज्ञान में इतनी प्रगति की हें आप लोगों के लिए कोई इस प्रकार का वचन बनाना मुश्किल काम नही है तो 'उसाम' गैस को टुंबटी की धरती पर आने से रोके 'हुनैन बोला

    हुनैन से बात करने के बाद सम्राट योकोटी ने अपने वैज्ञानिको से परामर्श किया तो उनहो ने बताया ऐसा कवच बनाया जा सकता

है जो उसाम को धरती तक आने से रोके और जिसके कारण टुंबाटी पर मंडलाता खतरा टल जाए और टुंबाटी नष्ट होने से बच जाए

तुरतं वहां के वैज्ञानिक ऐसा कवच बनाने में लग गएक्योकि वे इस क्षेत्र में बहुत प्रगत थे इसलिए आसानी से ऐसा कवच बनाने में सफल भी हो गएअौर उन पर छाया खतरा टल गया

धरती के एक इन्सान एक लडके हुनैन के कारण टुंबाटी ग्रह नष्ट होने से बच गया टुंबाटी को विनाश से बचाने के लिए सारे टुंबाटी वासी धरती वासियों और हुनैन के आभारी हैं अब हम कभी धरती पर टेडी नजर नही डालेंगे अौर डाल भी किस तरह सकते हैं? उन की दुखती नस तो अब धरती वासियो को मालूम ही पड गई हैं

     उसाम को रोकने वाले कवच मे एक छोटासा छेद टुंबाटी को नष्ट कर देगा

     अब धरती पर छाया खतरा टल गया था टुंबाटी पर खतरा छाया था

     सब हुनैन के ज्ञान के कारण संभव हुआ था

-----------समाप्त--------------------

 

पता:-

एम मुबीन

303-क्लासिक प्लाजा,तीन बत्ती

भिवंडी-421 302

जिठाणे  महारा8ट्र

मोबाईल:-09372436628

 




---------------------------Add------------------
M.Mubin

303-Classic Plaza,Teen Batti

BHIWANDI-421 302

Dist.Thane ( Maharashtra)

Mob:-09372436628

Email:-mmubin123@gmail.com