Make your own free website on Tripod.com

 

 

संकट

लेखक:-एम मुबीन

 

 

2057 के एक दिन अचानक भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र ''भाता'' के राडरो ने संकेत दिया के अंतरिक्षसे आती कुछ उडन तश्तरियां धरती की ओर बढ रही है

सारी दुनिया के टी वी पर ''भाता'' 'के ैचेनल ने घंटी बजा कर इस बात की घोषणा की के अब यह चैनल कोई अनहोनी घटना बताने वाला है

सारी दुनिया के लाग '''भाता चैनल' लगा कर दिल थाम कर बैठ गए उस समय संचार माध्यामों ने इतनी प्रगति कर ली थी कि हर संस्था

कंपनी, इता ने अपना टी वी चैनल आरंभ कर दिया था जो आसानी से सारी दुनिया में देखा जाता था यदि कोई महत्वपूर्ण सुचना उस चैनल को देनी होती थी तो वह पहले इस बात का संकेत देकर लोगों को सर्तक कर देता था ताकि वे उस विशेष कार्यक्रम को देख सके

टी वी की स्क्रीन पर दो तीन बडी बडी उडन तश्तरियों के चित्र उभरे फिर उन अंतरिक्ष यानों के भीतर बैठे विचित्र वासियों के चेहरे उभरे जो सारी दुनिया को संबोधित कर रहे थे

'हम दूसरे ग्रह से आए हुए हैं वह ग्रह इतनी दूर है कि तुम लोग अपनी तेज रफतार अंतरिक्ष यान से भी दो चार हजार वार्षों तक वहां नही पहुंच सकते स्वय  हमारे यानो को धरती तक पहुंचनं के लिए दो वर्ष लगते है तुम्हारी धरती पर पानी नामक एक द्रव्य मौजूद है जो हमारे लिए कीमती है हमारे ग्रह पर मिलने वाले कुछ पध्दार्र्थो को मिला कर हम उससे इतना शक्ति शाली बम बनाना चहते है कि उस बम के केवल एक कण से तुम्हारी धरती नष्ट हो जाए उसे बनाने के लिए हमे धरती पर मौजूद पानी में से 1ध्3 पानी चाहिए इस लिए हमे इतना पानी ले जाने दिया जाए यदि हमे पानी ले जाने से रोका गया तो हमारे पास ऐसे शस्त्र है जिन से हम सारी धरती नष्ट कर देंगे नमूने के तौर पर हम धरती के एक द्वीप को नष्ट कर रहे हैं ''

उसके बाद उस यान से एक किरण निकली और फिर टी वी पर एक द्वीप के नष्ट होने के दृश्य उभरे

यदि उस द्वीप को नष्ट करना होता तो उस समय उपलब्ध सबसे अधिक विनाशकारी दस बम दरकार थे परंतु केवल एक साधारण किरन ने उस द्वीप को नष्ट कर दिया था  उस दृशय को देख कर सारी दुनिया के लोग भयभीत हो उठे

'हमे धमकाने की कोशिश मत करो ' भाता द्वारा उन लोगो को ललकारा गया' हम भी इतने शक्ति शाली हैं कि एक क्षण मे ंतुम लोगो को नष्ट कर सकते हैं नमूना पेश है ''

एक किरन आकाश की ओर बढी और उनका एकअंतरिक्ष यान नष्ट हो गया

'तुम लोग हमारे सारे यानों को नष्ट भी कर दो तो हमारा मिश्न खत्म नही होगा हमारी धरती से और यान आएगे परंतु वे धरती का 1ध्3 पानी लेजाकर ही रहेंगे चाहे इसके लिए धरती को नष्ट क्यों ना करना पडे''

''परंतु तुम इतना सारा पानी अपने इतने छोटे यान से कैसे लेजा सकते हो? ''भाता द्वारा पूछा गया

'जिस प्रकार तुम्हारी धरती पर पानी को जमा कर बर्फ बनाई जाती है उसी तरहा हम उस पानी को ठोस बनाकर ले जाएंगे हमारी धरती पर एक गेस मिलती है वह पानी में मिलाकर करोडो अरबो लिटर पानी को भी हजार दो हजार किलो का ठोस पध्दार्थ बना देती है हम उसकी सहायता से  सारे पानी को ठोस बना कर ले जाएंगे नमुने के लिए हम उस गेस की सहायता से प्रशांत महा सागर के एक भाग को ठोस पध्दर्थ बना रहे है ''

पता नही उन्हो ने क्या चीज धरती की ओर फेंकी लोगों ने देखा प्रशांत महा सागर सूख रहा है और देखते ही देखते सारा प्रशांत महा सागर सूख गया और वहा केवल एक छोटा सा बर्फ के समान पहाड उभर आया

'देखा हम ने प्रशांत महा सागर को एक छोटा सा बर्फ का पहाड बना दिया अब हम उस पहाड को आसानी से अपने ग्रह लेजा सकते है ऌसी प्रकार हम दुनिया का 1ध्3 पानी ले जाएगे ऌस काम के लिए हम दस दिन का समय देते है दस दिन के भीतर हमे अपनी इच्छा से धरती का 1ध्3 पानी ले जाने की अनुमती दे दी जाए वरना हम धरती को नष्ट कर के अपने तरीके से पानी ले जाएगे हम प्रशांत महा सागर को दोबारा अपने असली हालत में ला रहे है ''

पहाड पिघलने लगा और चारों ओर पानी फैलने लगा देखते ही देखते प्रशांत महासागर फिर अपनी पुरानी असली हालत पर वापस आगया

इसके साथ ही उन लोगों का भाता और सारी दुनिया से संपर्क टूट गया

इस नए संकट से सारी दुनिया दहल उठी उन्हों ने अपनी जिस शक्ति का प्रदर्शन किया था  उस से तो ऐसा लग रहा था कि वे हर हाल में दुनिया का 1ध्3 पानी लेकर ही जाएंगे वे उसके लिए दुनिया को नष्ट भी कर सकते हैं, यदी इन लोगो को मार भगाया भी गया तो दूसरे आएगे और वे सारी धरती को नष्ट कर देंगे

इन बातों को सोचते धरती के ज्यादातर लोगों का कहना था कि धरती की रक्षा के लिए उन्हें धरती का 1ध्3 पानी दे दिया जाए

परंतु वैज्ञानिकों का कहना था कि यदि धरती से कुछ लाख लिटर पानी भी कम हुआ तो इस से पर्यावरण और वातावरण को खतरा पैदा हो जाएगा

धरती का 1ध्3 पानी कम हो जाने के बाद धरती का तापमान बहुत बढ जाएगा उसके तापमान के कारण धरती के 70 प्रतिशत वन संमपती नष्ट हो जाएगी

 उत्तरी, दक्षिणी  धुव पिघल जाएगे ,बढते तापमान को मानव सहन नही कर पाएगा और कुछ दिनों में ही धरती की आधी आबादी मर जाएगी

यदि धरती पर जीवन को कायम रखना है तो कोशिश इस बात की की जानी चाहिए कि धरती से एक लिटर पानी भी कहीं और ना जाए ''

दुनिया के सारे नेताओं ने धरती को इस संकट से बचाने के लिए कोई उपाय ढूंढने की अपील की

अपने नेताओं की अपील पर दुनिया के करोडों लोग इस संकट से बचने का मार्ग ढूढने लगा

उनमें एक विज्ञान का छात्र राजू भी था

राजू के पिता वैज्ञानिक थे वह उनके कंप्यूटर में जमा विज्ञान की सारी जानकारियों को पढते इस संकट से बचने का मार्ग ढूंढने लगा

धरती को बचाने के लिए केवल दस दिन का समय मिला था उस संकट से बचने का मार्ग ढूंढने में दिन पर दिन बीतते जा रहे थे और समय कम हो रहा था

दस दिन बीत जाने के बाद एक ही रास्ता बाकी रह जाता था

उन लागों को धरती का 1ध्3 पानी ले जाने की अनुमती दे दी जाए और बाद में धरती के नष्ट होने का चुप चाप तमाशा देखा जाए

अचानक एक दिन राजू को कंप्यूटर में एक ऐसी जानकारी मिली जिसे पढकर वह उछल पडा

2018 में किसी वैज्ञानिक ने पता लगाया था कि दूर किसी ग्रह पर एक ऐसी गैस है यदि वह थोडी सी भी समुंद्र में उंडेल दें तो समुंद्र का सारा पानी सिमट कर बर्फ की तरह केवल कुछ किलो का एक ठोस पध्दार्थ बन जाएगा

परंतु यदि धरती पर उस समय जाकेनाजम नामी एक गैस रही तो फिर उस गैस का कोई भी प्रभाव पानी पर नही होगा ज़ाकेनाजम गैस किस तरहा बनाई जाए उस का सुत्र भी उस वैज्ञानिक ने दिया था

राजू ने तुरंत भाता के प्रमुख से संपर्क स्थापित कर के सारी बातें बता दी और उस गैस का फार्मिला भी उसे देदिया

'' ठिक है राजू बेटे '' भाता प्रमुख बोले ''यदि ऐसी बात है तो हम अभी उस सुत्र से गैस बना कर सारी दुनिया में फैला देते है ''

तुरंत उस सुत्र से गैस बना कर दुनीया मैं फैलाई जाने लगी मुददत समाप्त होने से दो दिन पहले उन लोगो से संपर्क स्थापीत कर के कहा गया कि वे प्रशांत महा सागर का सारा पानी लेजा सकते है

उन लोगों ने गैस छोडी परंतु जाकेनाजम गैस के हवा में होते प्रशांत महा सागर के पानी की एक बुंद भी नही जम सकी

उन्हों ने बहुत प्रयत्न किया परंतु हर बार निराश हुए अंत वे निराश वापस लौट गए जाकेनाजम वायू के होते अब वे कभी भी धरती से एक बुूंद पानी भी नही लेजा सकते थे

उन की असफलता पर सारी दुनिया में खुशियां मनाई जा रही थी

धरती पर आया संकट एक भरतीय बालक राजू की बुध्दी मानी और शोध से टला था

 

-----------समाप्त--------------------

 

पता:-

एम मुबीन

303-क्लासिक प्लाजा,तीन बत्ती

भिवंडी-421 302

जिठाणे  महारा8ट्र

मोबाईल:-09372436628

 




---------------------------Add------------------
M.Mubin

303-Classic Plaza,Teen Batti

BHIWANDI-421 302

Dist.Thane ( Maharashtra)

Mob:-09372436628

Email:-mmubin123@gmail.com